हमारे साथ धैर्य रखें जब हम सीखते हैं
31 मई 2021
हमारा मार्गदर्शन करें
3 जून 2021

धैर्य रखें और प्रार्थना करें

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का दूसरा अध्याय है: पीढ़ी से पीढ़ी

मैंने कुछ ही दिन पहले ‘जो’ नामक हमारे सत्तर से अधिक वर्षीय घरेलू रखरखाव करने वाले जन को यह देखने के लिए बुलाया कि क्या वे हमें अपनी व्यस्त समय-सारणी में समय दे सकते हैं। उन्होंने फ्रिज ठीक करने के मध्य में अपने फोन का उत्तर दिया और कहा कि उनको उस दिन बाद में पलटकर कॉल करना होगा। “पर परेशान मत हो,” उन्होंने कहा, “मेरे पास घर में मेरी पुस्तक में आपका नम्बर है।” “पर जो,” मैंने चिड़चिड़ाहट के साथ उत्तर दिया, “जिस नम्बर से मैं आपसे बात कर रहा हूँ क्या आप केवल उसे संरक्षित नहीं कर सकते हैं और उससे पहले मुझे पलटकर बुला नहीं सकते हैं?” “मेरे पुराने फोन में नहीं,” उन्होंने कहा। मैं उनको एक स्मार्टफोन की आवश्यकता पर  निर्देश देना चाहता था। परन्तु फिर मुझे स्मरण आया कि मैं उनको इसलिए बुला रहा था क्योंकि जो जानते हैं कि कैसे दरवाजे टांगे जाए, छत के पंखे लगाए जाएं, और खिड़कियों को सही की जाए, और वे अन्य उपयोगी कार्यों में निपुण हैं जिनको करने का प्रयास करने से पहले ही मैं डरता हूँ।

धीरज में बढ़ने के लिए जीवन भर हमें सतर्कता की आवश्यकता है। पर युवा ख्रीष्टीय बहुत प्रोत्साहित हो सकते है, धीरज में प्रगति के साथ, यह जानते हुए कि धैर्य प्रमाण है पवित्र आत्मा के कार्य का: “परन्तु आत्मा का फल है . . . धीरज . . . है” (गलातियों 5:22)। परमेश्वर उस कार्य को छोड़ेगा नहीं जिसे उसने आरम्भ किया है वह उसे नहीं छोड़ेगा (फिलिप्पियों 1:6)। फिर भी, हमें धीरज में बढ़ने के प्रयास में देरी नहीं करनी चाहिए, क्योंकि याकूब हमें स्मरण दिलाता है: “तुम नहीं जानते कि कल तुम्हारे जीवन का क्या होगा, तुम तो भाप के समान हो, जो थोड़ी देर तक दिखाई देती और फिर अदृश्य हो जाती है” (याकूब 4:14)।

नया नियम में प्रायः: धीरज का वर्णन करने के लिए एक यूनानी शब्द मकोर्थूमिया  उपयोग किया जाता है, जिसका  अर्थ है “लम्बे समय से संयमित।” एक त्वरित फ्यूज के जैसे आग पकड़ने के स्थान पर, एक धैर्यवान व्यक्ति “स्वयं को ठंडा रखता है।” धीरज परमेश्वर के स्वभाव का अभिन्न अंग है: “परन्तु हे प्रभु, तू दयालु और अनुग्रहकारी परमेश्वर है, क्रोध करने में धीमा और करुणा और सच्चाई से परिपूर्ण है” (भजन 86:15)। क्योंकि परमेश्वर सभी उत्तम दानों का दाता है—और इसमें कोई सन्देह नहीं है, धीरज एक अद्भुत उपहार है—आपको परमेश्वरीय दानदाता को खोजना चाहिए (याकूब 1:17)। प्रार्थना के बिना धीरज में वृद्धि करना एक मूर्ख का कार्य है। इसलिए, आपको परमेश्वर से प्रार्थना करना चाहिए कि आपको वह दे, जो उसके चरित्र से आप में प्रवाहित होती है।

धीरज में बढ़ने के लिए कुछ प्रमुख क्षेत्र अलग दिखते हैं। एक पीढ़ियों के मध्य वार्तालाप से सम्बन्ध रखता है। प्रायः हमारी युवावस्था में, हम अधीरता में होकर उन धीरे से बोलने वाले या कहानी बताने वाले वरिष्ठ लोगों के प्रति द्वार बन्द कर देते हैं जिनको परमेश्वर ने हमारे जीवनों में रखा है। हम सोचते हैं, “मैं जानता हूँ! मैं जानता हूँ!” याकूब पुनः सहायता करता है जब वह कहता है, “हे मेरे प्रिय भाइयों, यह तो तुम जानते ही हो: अतः प्रत्येक व्यक्ति सुनने के लिए तो तत्पर, बोलने में धीरजवन्त, और क्रोध करने में धीमा हो” (पद 19)। अगली बार जब आप अपने आप को एक वृद्ध व्यक्ति के साथ अधीर होते हुए पाते हैं और मुड़कर चले जाने के लिए तैयार हैं, तो पहले सुनना स्मरण रखें। परमेश्वर ने अपने पवित्रीकरण कार्य में अनुभवी सन्तों को बहुत कुछ सिखाया है।

दूसरा, जब आप अपने कार्य की बुलाहट की प्रतीक्षा करते हैं तो धीरज रखें। पथ उतना सरल नहीं है जैसे उन दिनों में था जब अपने परिवार द्वारा निर्धारित कौशल को सीखते थे। विकल्प अति व्यापक हैं। इसलिए, जब तक आप “प्रभु के लिए” (कुलु. 3:23) हृदय से परिश्रम करते हैं, तो घुमावदार मार्ग में बेचैन न हों। परमेश्वर का आपके लिए उसकी सिद्ध योजना के लिए धन्यवाद देने की उपेक्षा न करें: “तू सम्पूर्ण हृदय से यहोवा पर भरोसा रखना, और अपनी समझ का सहारा न लेना। उसी को स्मरण करके अपने सब कार्य करना, तब वह तेरे लिए सीधा मार्ग निकालेगा” (नीतिवचन 3:5-6)। मरुस्थल की यात्रा में सन्तुष्टि के लिए प्रयत्न करें। आप पूरी रीति से नहीं जान सकते हैं कि आप क्या कर रहे हैं अपने कुशलताओं या सम्बन्धों को प्राप्त करने के द्वारा, न ही कि परमेश्वर के चुने हुए लोगों के उद्धार के लिए आप कौन से परमेश्वरीय उद्देश्यों को पूरा कर रहे हैं।

धीरज रखने तथा अटल प्रार्थना करने का एक और प्रमुख स्थान जीवन साथी की प्रतीक्षा करने का है। मेरे पास्टरीय अनुभव में, यह बहुत सारे लोगों के लिए बहुत पीड़ा का विषय रहा है। एक संभावित जीवन साथी में परमेश्वरीय चरित्र और ख्रीष्ट के लिए प्रेम के लिए सचेत स्तर रखिए (यह याद रखते हुए कि आप भी पापी हैं)। उसी समय में, यह प्रश्न करें कि क्या आपकी सूची में शारीरिक सुन्दरता, वित्तीय सुरक्षा, या सिद्ध अनुकूलता पवित्र आत्मा से हैं या इस संसार के मायावी मूर्ति उद्योगशाला से हैं (रोमियो 12:1-2; 1 यूहन्ना 5:21)। धीरज परमेश्वर की सम्प्रभुता पर व्यक्ति के विश्वास को प्रकट करता है, और यह इच्छा के इस सबसे संवेदनशील क्षेत्र में उसके प्रावधान को सम्मिलित करता है।

मैथ्यू हेनरी पहले आए हुए गवाहों के बादल में एक भेदक वाणी है। वह इस बात को सटीकता से रखता है, जब वह कहता: “अपने भरोसे को मत छोड़ो क्योंकि परमेश्वर अपने कार्यों के लिए रुका रहता है . . . परमेश्वर कार्य करेगा जब वह प्रसन्न होता है, जैसे वह प्रसन्न होता है, और किस माध्यम से वह प्रसन्न होता है। वह हमारे समय को बनाए रखने के लिए बाध्य नहीं है, परन्तु वह अपने वचन को पूरा करेगा, हमारे विश्वास का सम्मान करेगा, और उन्हें पुरस्कृत करेगा जो परिश्रम से उसकी खोज करते हैं। ”

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
डॉन बैली
डॉन बैली
रेव्ह डॉन बैली जूनियर, सौनफर्ड, फ्लॉरिडा में सेन्ट एंड्रयू चैपल में सहयोगी पास्टर हैं।