समुदाय में आनन्द| लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
बाहरी आनन्द की तुलना में वास्तविक आनन्द
20 जुलाई 2021
ख्रीष्ट का आनन्द
28 जुलाई 2021

समुदाय में आनन्द

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का चौवथा अध्याय है: आनन्द

क्या आपको हाइ स्कूल पूरा करने का समारोह स्मरण है? आप में से कई लोग के लिए, वीडियो कैमरे चल रहे थे, आपका परिवार आपके उस समारोह में उपस्थिति था, और मित्र आपको बधाई देने के लिए वहाँ पर उपस्थिति थे। जिस प्रकार की अत्याधिक उमंग और परिस्थिति का आनन्द आपने लिया, उससे अपरिचित लोगों ने विचार किया होगा कि आपने किसी बीमारी का उपचार पा लिया था। इसके विपरीत, आपने  केवल सयुंक्त राज्य भर में सभी बारहवीं कक्षा के स्तर की आधारभूत शैक्षणिक अपेक्षाओं को पूरा किया था। और फिर भी, उस समारोह में आपके लिए पुष्टि, प्रोत्साहन और उत्सव था। यह सम्भवतः पहली बार नहीं था जब आपने इस प्रकार के आनन्द का अनुभव किया था, और यह आशा की जाती है, कि यह अन्तिम नहीं था।

कल्पना कीजिए कि जीवन की ऐसी बड़ी घटनाएं (डिग्री प्राप्त करना, विवाह, जन्म की घोषणाएं, इत्यादि) किसी के साथ साँझा किए बिना कैसे भिन्न होंगी। वे अभी भी घटित होंगे परन्तु खोखले होंगे और अधूरा अनुभव करेंगे। फिर भी कई मसीहियों के लिए ऐसा ही है जब वे मसीही जीवन को बहुत कम अर्थपूर्ण सम्बन्धों के साथ संचालन करते हैं। आवश्यक रीति से इसका अर्थ यह नहीं है कि वे एक स्थानीय कलीसिया में नहीं जाते हैं, मसीही पुस्तकें नहीं पढ़ते हैं, या उनके जीवन में परमेश्वर के वचन और प्रार्थना में समय का एक सराहनीय अनुशासन नहीं है। परन्तु, वे व्यापक रीति से उन चालू सम्बन्धों के बिना ऐसा करते हैं जो परमेश्वर ने उनके लिए उनकी स्थानीय कलीसिया में रखा है।

समय के आरम्भ से, परमेश्वर ने मनुष्य को दूसरों के साथ समुदाय में रहने के लिए बनाया है। आदम को उसके लिए उपयुक्त सहायक प्रदान किए जाने से लेकर, मूसा को हारून का सहकर्मी दिए जाने, यीशु ने अपने पृथ्वी पर सेवकाई के समय अपने साथ रहने और उन्हें सीखाने के लिए बारह शिष्यों को चुने जाने तक, प्रगति सदा से एक से आरम्भ होकर अधिक लोगों की ओर रहा है। खेदजनक, आज पश्चिमी विचारधारा के लोग, स्वत्व अधिकार और एकान्तता पर बल देते हैं, और इस विचार ने बहुत मसीहियों को प्रभावित किया है कि वे अन्य खीष्टियों के साथ अपने सम्बन्धों के विषय में किस प्रकार से सोचते हैं। वे दुखद रूप से त्रुटिपूर्वक रीति से समझते हैं कि मसीही जीवन व्यक्तिगत है परन्तु निजी नहीं है। इसके विपरीत, मसीही स्वयं से बाहर निकाल कर नए भाई-बहनों के परिवार में लाए जाते हैं, जिनमें से सभी का पिता एक ही है। वे एक दूसरे के नाम सीखते हैं, एक दूसरे का बोझ उठाते हैं, एक दूसरे के जीवन से सीखते हैं, और एक दूसरे को प्रोत्साहित करते हैं कि वे उस इनाम को पाने के लिए” उत्कृष्टता में बढ़ें “जिसके लिए परमेश्वर ने हमें ख्रीष्ट यीशु में ऊपर बुलाया है” (फिलिप्पियों 3:14)। 

परन्तु भ्रमित मत होइए। समुदाय में यह साँझा करना केवल आज्ञाकारिता का मार्ग नहीं है। यह आनन्द का मार्ग है। पौलुस ख्रीष्ट में आनन्दित होने के लिए कहता है— जो हमारे आनन्द का विषय वस्तु है। फिर भी, वह झरना आनन्द की एक नदी प्रदान करता है जो नए नियम के समुदाय से होकर बहती है। मसीही जीवन में दूसरों के लिए उदाहरण बनने और दूसरों का अनुकरण करने में आनन्द है (फिलिप्पियों 3:17)। दूसरों के द्वारा आपके प्रति चिन्ता व्यक्त करने में आनन्द है (4:10)। यह जानने में आनन्द है कि परमेश्वर ने दूसरों को हमारे दुख में हमें शान्ति देने के लिए दिया है, सहानुभूति के लिए नहीं परन्तु उनके दुखों में साझा करने में (2 कुरिन्थियों 1:4)। यह जानने में आनन्द है कि कैसे प्रभु के लिए आपका प्रेम और उसके वचन की आज्ञाकारिता दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रोत्साहित करती है (1 थिस्सलुनिकियों 1:8-9)। यह जानने में आनन्द हैं कि आप “चुना हुआ वंश, राजकीय याजकों का समाज, एक पवित्र प्रजा, और परमेश्वर की निज सम्पत्ति” के भाग हैं (1 पतरस 2:9)। 

मुझे स्पष्ट होने दीजिए। यह आपके स्थानीय कलीसिया में एक व्यक्तित्व प्रतियोगिता में प्रवेश करने या दूसरों को देखने के लिए अपील नहीं है जो स्वभाव से प्रसन्न हैं और आपके सामने अपनी मसीही जीवन जीते हैं। मैं कुछ अधिक महत्वपूर्ण विचार के विषय में बात कर रहा हूँ जो यीशु ख्रीष्ट के सुसमाचार और उसके आगमन की प्रतिज्ञा की आशा में निहित है (1 थिस्सलुनीकियों 1:10)। सुसमाचार हमारे आनन्द का स्रोत और ईंधन है। जैसा एक लकड़ी का लट्टा अन्य लकड़ी के ढेर में अधिक जलता है, मसीही भी स्थानीय कलीसिया के घनिष्ट समुदाय में महान आनन्द को जानता है। यह आनन्द आनन्द मनाने वाले लोगों के साथ आनन्द के पर्वतों से आता है और रोने वाली निचली घाटी से आता है जो रोने वालों के साथ रोते हैं (रोमियों 12:15)। कैसे? यह देखने के द्वारा कि कैसे परमेश्वर का हाथ अपने लोगों को सम्भाले रहता है, कैसे उसका वचन सत्य प्रमाणित होता है, और कैसे पवित्र आत्मा लोगों को उनके अपने स्वार्थी जीवन से दूर जाने और दूसरे लोगों के लिए चिन्ता करने और अपने स्थानीय कलीसिया परिवार में दूसरों पर दया दिखाने की ओर फेर देता है।

आपकी क्या स्थिति है? जब आप टेबेलटॉक  के इस प्रकाशन को नीचे रखते हैं, तो आप कहाँ से आरम्भ करेंगे? आप हमारे महान परमेश्वर और राजा से क्या मांगेगे? मैं सुझाव देता हूँ कि आरम्भ करने के लिए एक स्थान है अपनी स्थानीय कलीसिया की ओर एक कदम बढ़ाना। फोन उठाइए। वार्तालाप की योजना बनाइए। रविवारीय आराधना सभा के बाद रुके रहिए। सप्ताह के मध्य में बाइबल अध्ययन के लिए समय से पहले पहुंचिए। दूसरों से पूछना आरम्भ कीजिए कि पिछले सप्ताह उन्हें किस बात ने प्रोत्साहित किया है। दूसरों से पूछिए कि आप ख्रीष्ट के साथ चलने के सम्बन्ध में उनके लिए कैसे प्रार्थना कर सकते हैं। इन सभी बातों में, आनन्द के झलक धीरे से आएंगे और परमेश्वर के अनुग्रह के प्रमाण दिखाई देंगे।

प्रत्येक मसीही के लिए एक अन्तिम पूर्ति समारोह प्रतिक्षा कर रहा है। जब आपका दिन आता है, प्रभु ऐसा करे ख्रीष्ट में आपके परिवार उपस्थित हों जो विश्वास के साथ गीतों की घोषणा करते हैं जैसे कि “मेरा प्राण ठीक है,” (“It is Well”) जो यह घोषणा करता है, “हे प्रभु, उस दिन को शीघ्र ला जब मेरा विश्वास दृष्टि बन जाए।” उस दिन, सभी लोग वास्तविक आनन्द को जानेंगे। 

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
एरिक बैनक्रॉफ्ट
एरिक बैनक्रॉफ्ट
रेवेरेन्ड एरिक बैनक्रॉफ्ट मयैमी में ग्रेस चर्च के पास्टर हैं।