स्टीवन जे. लॉसन, Author at लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़

लिग्निएर का ब्लॉग

हम डॉ. आर. सी. स्प्रोल का शिक्षण संघ हैं। हम इसलिए अस्तित्व में हैं ताकि हम जितने अधिक लोगों तक सम्भव हो परमेश्वर की पवित्रता को उसकी सम्पूर्णता में घोषित करें, सिखाएं और रक्षा करें। हमारा कार्य, उत्साह, और उद्देश्य है कि हम लोगों को परमेश्वर के ज्ञान और उसकी पवित्रता में बढ़ने में सहायता करें।

 
6 दिसम्बर 2022

युगों के लिए ईश्वरविज्ञानी: जॉन कैल्विन

जॉन कैल्विन (1509-1564) सरलता से सभी समय के सबसे महत्वपूर्ण प्रोटेस्टेन्ट ईश्वरविज्ञानी है और वास्तविक महान पुरुषों में से एक रहे हैं। एक विश्व-स्तरीय ईश्वरविज्ञानी, एक प्रसिद्ध शिक्षक, एक कलीसियाई अगुवा और एक बहादुर धर्मसुधारक, कैल्विन को कई लोगों द्वारा पहली शताब्दी के बाद से कलीसिया पर सबसे अधिक प्रभावशाली व्यक्ति के रूप में देखा जाता है।
1 दिसम्बर 2022

वाचाई ईश्वरविज्ञानी: हेनरिक बुलिंगर

हेनरिक बुलिंगर (1504-1575) को दूसरी-पीढ़ी के अत्यन्त प्रभावशाली धर्मसुधारक के रूप में देखा जाता है। स्विट्ज़रलैन्ड के ज्यूरिख में उलरिच ज्विंगली के उत्तराधिकारी के रूप में, उन्होंने स्विस धर्मसुधार को संघटित किया और निरन्तर बनाए रखा, जिसे उनके पूर्ववर्ती ने आरम्भ किया था।
29 नवम्बर 2022

अनुवादकों का राजकुमार:

विलियम टिन्डेल (लगभग 1494-1536) ने इंग्लैण्ड के धर्म-सुधार में बहुत बड़ा योगदान दिया है। कई लोग यह कहेंगे कि उसने बाइबल को अंग्रेजी में अनुवाद करने तथा उसके प्रकाशन कार्य का निरीक्षण करने के द्वारा निर्णायक योगदान दिया है।
24 नवम्बर 2022

ज़्यूरिक क्रान्तिकारी: उलरिक ज़्विंग्ली

मार्टिन लूथर, हेनरिक बुलिंगर और जॉन कैल्विन को छोड़कर, सबसे महत्वपूर्ण आरम्भिक धर्मसुधारक, उलरिक ज़्विग्ली थे। एक पहली पीढ़ी के धर्मसुधारक के रूप में, उन्हें स्विट्ज़रलैण्ड प्रोटेस्टेंटवाद का संस्थापक माना जाता है।
22 नवम्बर 2022

सत्य के लिए गढ़: मार्टिन लूथर

मार्टिन लूथर इतिहास का एक बड़ा व्यक्ति था। कुछ का मानना है कि वह दूसरी सहस्राब्दी का सबसे महत्वपूर्ण यूरोपियन व्यक्ति था। वह मार्ग-निर्माता धर्मसुधारक था, जिसको परमेश्वर ने पहले ख्रीष्टीयता और बाद में पश्चिमी संसार के परिवर्तन के लिए एक चिंगारी के रूप में उपयोग किया।
17 नवम्बर 2022

धर्म-सुधार तथा इसके लिए कार्य करने वाले पुरुष

प्रोटेस्टेन्ट धर्म-सुधार कलीसिया के जन्म और आरम्भिक विस्तार के समय से ही अति व्यापक, विश्व-परिवर्तनकारी परमेश्वर के अनुग्रह को प्रदर्शित करने के रूप में खड़ा है।
15 नवम्बर 2022

सच्चाई का क्षण

जब मार्टिन लूथर को पवित्र रोमी शासक चार्ल्स V (पाँचवे) के द्वारा, अप्रैल 1521 में जर्मनी के वर्म्स में इम्पीरिएल धारा-सभा (imperial diet) के सम्मुख प्रस्तुत होने के लिए बुलाया गया, उन्हें स्वयं के विधर्मता के परीक्षण के लिए खड़ा होना था जिसमें उन्हें अपने लेखनों को नकारने के लिए कहा जाता।
17 मई 2022

परमेश्वर की महिमा के लिए ईश्वरविज्ञान

ईश्वरविज्ञान के अध्ययन को कभी स्वयं में अन्त नहीं होना चाहिए। ठोस सिद्धान्त का लक्ष्य कभी ऐसे लोगों को उत्पन्न करना नहीं जिनके मस्तिष्क भरे हुए हैं परन्तु ऐसे लोगों को उत्पन्न करना है जिनके हृदय खाली और जीवन बंजर हैं।
24 मार्च 2021

ज़्यूरिक क्रान्तिकारी: उलरिक ज़्विंग्ली

मार्टिन लूथर, हेनरिक बुलिंगर और जॉन कैल्विन को छोड़कर, सबसे महत्वपूर्ण आरम्भिक धर्मसुधारक, उलरिक ज़्विग्ली थे। एक पहली पीढ़ी के धर्मसुधारक के रूप में, उन्हें स्विट्ज़रलैण्ड प्रोटेस्टेंटवाद का संस्थापक माना जाता है। इसके साथ, इतिहास उन्हें पहले धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञानी के रूप में स्मरण करता है।