विश्वदृष्टि क्या है?- लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
सेम्पर रिफॉर्माण्डा का क्या अर्थ है?
5 मार्च 2021
प्रायश्चित का स्थल क्या है?
9 मार्च 2021

विश्वदृष्टि क्या है?

गर्भपात। इच्छा मृत्यु (अचिकित्स्य रोगी को उसकी इच्छा के अनुसार मृत्यु देना)। पोर्नोग्राफी (अश्लील चित्र एवं साहित्य)। समलैंगिक विवाह। लिंग परिवर्तित हुए लोगों के अधिकार। भ्रूण जांच। अनुवांशिक वृद्धि। पश्चिम में सांस्कृतिक परिदृश्य का सर्वेक्षण करने वाले मसीहियों को स्पष्ट बोध है कि स्थिति विनाशकारी दिशा में चल रही है। जबकि अधिकांश विश्वासी सरलता से पतन के लक्षणों की पहचान कर सकते हैं, कुछ ही लोगों को लगता है कि वे मूल कारणों को पता करने और उनका निदान करने के लिए सक्षम हैं। इन गतिविधियों के पीछे कई जटिल कारक हैं, लेकिन अपनी संस्कृति की बेहतर रीति से समझने और उसका आमना-सामना करने का एक बहुमूल्य साधन विश्वदृष्टि का विचार है। हम अपने समय में जो सामाजिक भूचाल तथा नैतिक दरारों को देखते हैं, हम कह सकते हैं कि वे “सांस्कृतिक प्लेट विवर्तनिकी” के कारण है: अर्थात् आधारभूत विश्वदृष्टि और उनके मध्य संघर्षों के कारण।

विश्वदृष्टि क्या है? जैसा कि शब्द स्वयं ही बताता है, विश्वदृष्टि का अर्थ पूरे संसार को देखना है। यह संसार को भौतिक रीति से देखना नहीं है, बल्कि दार्शनिक रीति से देखना है, उन सब बातों के प्रति दृष्टिकोण जो अस्तित्व में हैं और जो हमसे सम्बन्ध रखते हैं।

एक व्यक्ति की विश्वदृष्टि, उस ब्रह्माण्ड के बारे में जिसमें वह निवास करता है, उसकी सबसे आधारभूत मान्यताओं और धारणाओं का प्रतिनिधित्व करता है। यह प्रकट करता है कि वह मानव अस्तित्व के सभी “बड़े प्रश्नों” को कैसे उत्तर देगा: ऐसे आधारभूत प्रश्न जिनका सम्बन्ध इस बात से है कि हम कौन तथा क्या हैं, हम कहां से आए हैं, हम यहां क्यों हैं, हम कहां जा रहे हैं (यदि कहीं जा रहे हैं तो), जीवन का अर्थ और उद्देश्य, जीवन के बाद क्या और कैसे होगा, तथा यहाँ और अभी एक अच्छा जीवन क्या है। बहुत कम लोग इन विषयों के बारे में गहराई से सोचते हैं, और उससे भी कम लोगों के पास इस प्रकार के प्रश्नों के दृढ़ उत्तर हैं, लेकिन एक व्यक्ति का विश्वदृष्टि कम से कम उसे कुछ प्रकार के उत्तरों की ओर तथा अन्य उत्तरों से दूर कर देगा।

विश्वदृष्टि हमारे चारों ओर के संसार के अनुभवों को आकार देती और सूचित करती हैं। जैसे रंगीन लेंस के साथ चश्मे, जो प्रभावित करते हैं कि हम क्या और कैसे देखते हैं। लेंस के “रंग” के आधार पर, कुछ वस्तुओं को अधिक सरलता से देखा जा सकता है, या इसके विपरीत, उनको कम महत्व दिया जा सकता है या बिगाड़ा जा सकता है—और यहां तक कि हो सकता है कि कुछ वस्तुएं बिल्कुल भी न दिखाई दें।

विश्वदृष्टि बड़े स्तर पर लोगों के नैतिक और राजनीतिक बातों पर विचार को भी प्रभावित करती हैं। एक व्यक्ति, गर्भपात, इच्छा मृत्यु, समलैंगिकता, पर्यावरण नैतिकता, आर्थिक नीति, सार्वजनिक शिक्षा आदि के बारे में क्या सोचता है, यह सबसे अधिक उसके भीतर की विश्वदृष्टि पर निर्भर करेगा।

इस प्रकार, विश्वदृष्टि हमारे जीवन में एक मुख्य और परिभाषित भूमिका निभाते हैं। वे उन बातों को आकार देते हैं, जो हम विश्वास करते हैं तथा जो हम विश्वास करने के लिए तैयार होते हैं, हम अपने अनुभवों की कैसे व्याख्या करते हैं, हम उन अनुभवों के प्रतिउत्तर कैसे व्यवहार करते हैं, तथा हम दूसरों से कैसे सम्बन्ध रखते हैं। हमारे विचार और हमारे कार्य हमारे विश्वदृष्टि पर निर्भर हैं।

विश्वदृष्टि व्यक्तिगत स्तर और सामाजिक स्तर दोनों पर संचालित होते हैं। यह बहुत कम होता है कि दो लोगों के पास एक ही विश्वदृष्टि होगी, लेकिन हो सकता है कि वे एक ही मूल प्रकार के विश्वदृष्टि को व्यक्त करते हैं। इसके साथ, किसी भी समाज के भीतर, कुछ प्रकार के विश्वदृष्टि दूसरों की तुलना में अधिक प्रमुखता से प्रस्तुत किए जाएंगे, और इसलिए उस समाज की संस्कृति पर अधिक प्रभाव डालेंगे। पश्चिमी सभ्यता पर चौथी शताब्दी के बाद से मसीही विश्वदृष्टि का प्रभुत्व रहा है, भले ही ऐसे व्यक्ति और समूह रहे हैं जिन्होंने इसे चुनौती दी है। लेकिन पिछली कुछ शताब्दियों में, तकनीकी से धर्मवैज्ञानिक कारणों से, मसीही विश्वदृष्टि ने अपनी प्रभुता खो दी है, और अन्य प्रतिस्पर्धी विश्वदृष्टि कहीं अधिक प्रमुख हो गए हैं। इन गैर-मसीही विश्वदृष्टि में निम्न सम्मिलित हैं:

  • प्रकृतिवाद (Naturalism): कोई परमेश्वर नहीं है; मनुष्य केवल विकसित जानवर हैं; ब्रह्माण्ड एक बंद भौतिक प्रणाली है।
  • उत्तर आधुनिकवाद (Postmodernism): कोई वस्तु-निष्ठ सत्य और नैतिक मापदण्ड नहीं हैं; “वास्तविकता” अन्ततः एक मानव सामाजिक रचना है।
  • सर्वेश्वरवाद (Pantheism): परमेश्वर वास्तविकता की सम्पूर्णता है; इस प्रकार, हम सभी स्वभाव से दिव्य हैं।
  • अनेकतावाद (Pluralism): विश्व के विभिन्न धर्म अन्तिम वास्तविकता पर समान रूप से मान्य दृष्टिकोण का प्रतिनिधित्व करते हैं; उद्धार के लिए कई वैध मार्ग हैं।
  • इस्लाम (Islam): केवल एक ही परमेश्वर है, और उसका कोई पुत्र नहीं है; परमेश्वर ने सभी लोगों के लिए अपनी इच्छा को अपने अन्तिम नबी, मुहम्मद और अपने अनन्त वचन, कुरान के माध्यम से प्रकाशित किया है।
  • नैतिकतावादी उपचारात्मक देववाद (Moralistic therapeutic deism): परमेश्वर केवल चाहते है कि हम खुश रहें तथा दूसरे लोगों के साथ अच्छा व्यवहार करें; वह हमारे जीवनों में तभी हस्तक्षेप करता है जब हम सहायता के लिए उसे पुकारते हैं।

इनमें से प्रत्येक विश्वदृष्टि का गहरा प्रभाव है कि लोग अपने बारे में कैसे सोचते हैं, वे किन व्यवहारों को सही या गलत मानते हैं और कैसे वे अपने जीवन को दिशा-निर्देशित करते हैं। इसलिए यह महत्वपूर्ण है कि मसीही विश्वदृष्टि के स्तर पर अविश्वास के साथ व्यवहार करने में सक्षम हों। मसीहियों को न केवल यह समझने की आवश्यकता है कि बाइबल के आधार पर विश्वदृष्टि का क्या अर्थ है, लेकिन यह भी कि उन्हें क्यों उस विश्वदृष्टि को दृढ़ता से थामे रखना चाहिए और पूरे जीवन में इसे लागू करना चाहिए। उन्हें उन बड़े गैर-मसीही विश्वदृष्टियों की पहचान करने में सक्षम होना चाहिए, जो हमारे समाज में प्रभुत्व के लिए प्रयास करते हैं, ताकि हम समझ सकें कि एक मसीही विश्वदृष्टि से वे मूल रूप से कहां और कैसे भिन्न हैं, और एक अच्छा तर्क बना सकें कि केवल मसीही विश्वदृष्टि ही सच्ची, भली और सुन्दर है।

वर्तमान स्थिति में यह चुनौती पहले से कहीं अधिक बढ़कर है। लेकिन हमें हतोत्साहित नहीं होना चाहिए, क्योंकि हमारे लिए अवसर और संसाधन अब पहले से कहीं अधिक उपलब्ध हैं। पिछले लगभग आधी शताब्दी में या मसीही दर्शन तथा विश्वास के बचाव में एक उल्लेखनीय नवजागृति हुई है, जिसमें से अधिकांश ने बाइबल के विश्वदृष्टि को बढ़ाने और बचाव करने पर ध्यान केन्द्रित किया है। परमेश्वर अपने लोगों को जो कुछ भी करने के लिए बुलाता है, वह उन्हें उसके लिए तैयार करता है (इफिसियों 4:11-12; इब्रानियों 13:20-21 देखें)। समस्या यह नहीं है कि कलीसिया की तैयारी कम है, लेकिन यह कि उसने अभी तक उन सब संसाधनों को उपयोग नहीं किया है जिन्हें मसीह ने उसके लिए उपलब्ध कराया है।

यह लेख मूलतः लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़ ब्लॉग में प्रकाशित किया गया।

जेम्स ऐन्डर्सन
जेम्स ऐन्डर्सन
डा. जेम्स एन. ऐन्डर्सन, शार्लट्ट, नॉर्थ कैरोलाइना के रिफॉर्म्ड थियोलॉजिकल सेमिनरी में कार्ल डब्ल्यू मक्मर्रे प्रोफेसर ऑफ थियोलॉजी ऐन्ड फिलॉसफी तथा एसोसिएट रिफॉर्म्ड प्रेस्बिटेरियन चर्च में एक सेवक हैं। वे इस्लाम की खोज लिग्निएर शिक्षण श्रृंखला के लिए विशेष रूप से शिक्षक हैं और व्हाट इज़ यॉर वर्ल्डव्यू ? के लेखक हैं।