ब्लॉग | लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़

लिग्निएर का ब्लॉग

हम डॉ. आर. सी. स्प्रोल का शिक्षण संघ हैं। हम इसलिए अस्तित्व में हैं ताकि हम जितने अधिक लोगों तक सम्भव हो परमेश्वर की पवित्रता को उसकी सम्पूर्णता में घोषित करें, सिखाएं और रक्षा करें। हमारा कार्य, उत्साह, और उद्देश्य है कि हम लोगों को परमेश्वर के ज्ञान और उसकी पवित्रता में बढ़ने में सहायता करें।

 
14 सितम्बर 2021

धन्य हैं वे जिनके मन शुद्ध हैं

शुद्धता सभी संस्कृतियों को अलग-अलग रीतियों से चिन्हित करती है। समाजशास्त्री हमें बताते हैं कि प्रत्येक जनजाति या समूह रीति-विधियों और व्यवहार से सम्बन्धित अपनी अपेक्षाएं विकसित करता है। शुद्धता की बात करते हुए, न तो यीशु और न ही बाइबल विचित्र और अपरिचित क्षेत्र में प्रवेश कर रहे हैं।
9 सितम्बर 2021

धन्य हैं वे जो दयावन्त हैं

दया वह उदारता, हृदय की कोमलता, और आत्मा की करुणा है जो कि दूसरों के दु:खों को कम करने के लिए प्रेरित होती है। यह उन विशेषताओं में से एक है जो परमेश्वर की सन्तानों को चिन्हित करती है, क्योंकि परमेश्वर स्वयं “दया का धनी” है (इफिसियों 2:4)।
7 सितम्बर 2021

धन्य हैं वे जो धार्मिकता के भूखे और प्यासे हैं

प्रथम चार धन्य वाणी सब एक चेले की आवश्यकताओं का वर्णन करती हैं। “धन्य हैं वे जो धार्मिकता के भूखे और प्यासे हैं” शृंखला में अन्तिम है (मत्ती 5:3-6)। यीशु ने सर्वप्रथम कहा, “धन्य हैं वे जो मन के दीन हैं, क्योंकि स्वर्ग का राज्य उन्हीं का है”(पद 3)। मन का दीन होने का अर्थ है स्वयं की आत्मिक आवश्यकता और परमेश्वर पर निर्भरता को जानना (भजन 34:6; सपन्याह 3:12)।
2 सितम्बर 2021

धन्य हैं वे जो नम्र हैं

टीकाकारों और बाइबल के शिक्षकों के लिए धन्य वाणियों में  “धन्य” की व्याख्या “खुश रहना” अर्थ के रूप में करना असामान्य नहीं है। यूनानी में शब्द जिसका अनुवाद  “धन्य” किया जाता है मकारियोस  है, और जबकि “खुश रहना” एक उपाय है इसकी व्याख्या करने के लिए, धन्य वाणियों के व्यापक सन्दर्भ में, खुशी निशाने से चूक जाते हुए प्रतीत होता है।
31 अगस्त 2021

धन्य हैं वे जो शोक करते हैं

ये बहुमूल्य शब्द यीशु की दूसरी धन्य वाणी—“धन्य हैं वे जो शोक करते हैं,  क्योंकि वे सान्त्वना पाएंगे” (मत्ती 5:4) —यशायाह  61 के सन्दर्भ में कहे गए हैं। नबी एक ऐसे युग की सोच रखता है जहाँ परमेश्वर का कष्ट भोगी सेवक परमेश्वर के बंधुवाई में पड़े लोगों के लिए सान्त्वना ले कर के आएगा: “प्रभु यहोवा का आत्मा मुझ पर है, क्योंकि यहोवा ने मेरा अभिषेक किया है . . . सब शोकितों को शान्ति दूँ” (यशायाह 61:1-2; 40:1 भी देखें)।
26 अगस्त 2021

धन्य हैं वे जो मन के दीन हैं

हमारे परिवार ने कुछ ही दिन पहले शिकागो में सुन्दर और भव्य फील्ड संग्रहालय का भ्रमण किया। इसका नव-संस्थापक रूप उस क्षेत्र में छा जाता है।आप इस तक भिन्न भिन्न कोणों से पहुंच तो सकते हैं, परन्तु उसमें एक ही प्रवेश द्वार है।
24 अगस्त 2021

धन्य होना

परमेश्वर की आशीष को हल्के में नहीं लेना चाहिए। परन्तु हमारे दिनों में, आशीषों को बिना गम्भीरता और अन्धाधुन्ध रीति से इधर उधर दिया जाता है कि अशीष  ने अपने अर्थ को लगभग खो दिया है।
19 अगस्त 2021

धर्मसुधारवादी होने के लिए साहस

जब हम धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान (Reformed Theology) को समझने लगते हैं, तो न केवल हमारे उद्धार की समझ में परिवर्तन होता है, परन्तु प्रत्येक बात की समझ में। इसी कारण से जब लोग धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान के प्रारम्भिक सिद्धान्तों से संघर्ष करते हैं और जब वे उसे समझने लगते हैं, तो वे प्राय: अनुभव करते हैं कि उनका दोबारा हृदय परिवर्तित हो रहा है।
16 अगस्त 2021

केवल विश्वास के द्वारा धर्मी ठहराया जाना

2017 में धर्मसुधार की पांच सौवीं वर्षगांठ का उत्सव बार-बार वापस आएगा केवल विश्वास द्वारा धर्मी ठहराए जाने के विषय पर, जो धर्मसुधार की सबसे महत्वपूर्ण पुनर्खोजों में से एक है।