ऐरन एल. गैरियट्ट, Author at लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़

लिग्निएर का ब्लॉग

हम डॉ. आर. सी. स्प्रोल का शिक्षण संघ हैं। हम इसलिए अस्तित्व में हैं ताकि हम जितने अधिक लोगों तक सम्भव हो परमेश्वर की पवित्रता को उसकी सम्पूर्णता में घोषित करें, सिखाएं और रक्षा करें। हमारा कार्य, उत्साह, और उद्देश्य है कि हम लोगों को परमेश्वर के ज्ञान और उसकी पवित्रता में बढ़ने में सहायता करें।

 
16 जून 2022

गलातियों 3:28

गलातियों 3:28 में पौलुस के कथन को विभिन्न त्रुटिपूर्ण विचारों का समर्थन करने के लिए उद्धृत किया गया है, परन्तु सामान्यतः दो रीतियों में इसका त्रुटिपूर्ण अर्थ निकाला जाता है।
20 जनवरी 2022

चिन्ता के साथ विश्वासयोग्यता से जीना

चिन्ता रहस्यमयपूर्ण और भ्रान्तिजनक है। कुछ लोगों ने शक्तिहीन करने वाली चिन्ता का अनुभव किया है जिससे कि उन्होंने अपने आप को एम्बुलेन्स के पीछे बैठा हुआ पाया, जबकि अन्य लोगों को असाम्यिक चिन्ताजनक विचार आते हैं जो उनके शान्तिपूर्ण निद्रा में जाने से पहले उनके मस्तिष्क से होकर निकलते हैं। 
23 नवम्बर 2021

राई के बीज और ख़मीर का दृष्टान्त

पृथ्वी पर उसकी सेवकाई के आरम्भ से ही यीशु की शिक्षा में परमेश्वर का राज्य का एक महत्वपूर्ण स्थान था (मत्ती 4:17; मरकुस 1:15; लूका 4:43)। उसने घोषित किया कि उसका पृथ्वी पर आने का अर्थ है कि परमेश्वर का राज्य निकट है।