ब्लॉग - लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़

लिग्निएर का ब्लॉग

हम डॉ. आर. सी. स्प्रोल का शिक्षण संघ हैं। हम इसलिए अस्तित्व में हैं ताकि हम जितने अधिक लोगों तक सम्भव हो परमेश्वर की पवित्रता को उसकी सम्पूर्णता में घोषित करें, सिखाएं और रक्षा करें। हमारा कार्य, उत्साह, और उद्देश्य है कि हम लोगों को परमेश्वर के ज्ञान और उसकी पवित्रता में बढ़ने में सहायता करें।

 
2 जून 2022

मत्ती 7:1

हमारे दिनों में कुछ ही स्थलों को मत्ती 7:1 से अधिक त्रुटिपूर्वक समझा गया है: “दोष न लगाओ जिससे तुम पर भी दोष न लगाया जाए।” यह वार्तालाप में प्रायः तब सामने आता है जब कोई किसी दूसरे व्यक्ति का नैतिक मूल्यांकन करने का साहस करता है जो कि सुनने वाले में क्रोध ले आता है।
31 मई 2022

यिर्मयाह 29:11

यिर्मयाह 29:11 में एक बहुमूल्य प्रतिज्ञा है जो संसार भर के मसीहियों को प्रिय है। साथ ही साथ यह पूरे पवित्रशास्त्र के सबसे अधिक त्रुटिपूर्ण रीति से लागू किए गए पदों में से एक है।
26 मई 2022

यशायाह 43:25

मेरी मण्डली में एक प्राचीन प्रायः यह परिहास करते हैं, “लोग कहते हैं कि जैसे जैसे आप वृद्ध होने लगते हैं, अल्पकालिक स्मरण शक्ति दूसरी बात है जो जाने लगती है; मैं स्मरण नहीं कर पा रहा कि पहली क्या है।”
24 मई 2022

पवित्रशास्त्र की उचित व्याख्या

समय समय पर, मुझसे पूछा जाता है कि, “यदि आप स्वयं को निर्जन द्वीप पर पाते हैं, और आपके पास केवल थोड़ी पुस्तकें हो सकती हैं, तो आप कौन सी पुस्तकेंचाहेंगे?”
19 मई 2022

लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़ का इतिहास

पिट्सबर्ग में पॉइंट स्टेट पार्क में ग्रेनाइट स्मारक पर उकेरे हुए शब्द हैं “अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का स्थान।” इस स्थान ने, जिसका नाम तीन नदियाँ (Three Rivers) है, उपनिवेशी युग में एक निर्णायक भूमिका निभायी। किन्तु 1750 के दशक में, कुछ ही लोगों ने सम्भवतः उस स्थान पर घटित घटनाओं के पूर्ण महत्व का आभास किया था। परन्तु प्रभाव बहुत बड़े थे, और वह शताब्दियों तक बना रहा। अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का यह स्थान आर. सी. स्प्रोल और वेस्टा (वूर्हिस) स्प्रोल के बचपन के घर से उत्तर-पश्चिम में दस मील की दूरी पर था।   
17 मई 2022

परमेश्वर की महिमा के लिए ईश्वरविज्ञान

ईश्वरविज्ञान के अध्ययन को कभी स्वयं में अन्त नहीं होना चाहिए। ठोस सिद्धान्त का लक्ष्य कभी ऐसे लोगों को उत्पन्न करना नहीं जिनके मस्तिष्क भरे हुए हैं परन्तु ऐसे लोगों को उत्पन्न करना है जिनके हृदय खाली और जीवन बंजर हैं।
12 मई 2022

ईश्वरविज्ञान और प्रतिदिन का जीवन

प्यूरिटन विलियम पर्किन्स ने प्रसिद्ध रूप से ईश्वरविज्ञान को “सदैव के लिए धन्य जीवन जीने का विज्ञान” के रूप में परिभाषित किया है।
10 मई 2022

ईश्वरविज्ञान और कलीसिया

ईश्वरविज्ञान, वह सत्य जो कि परमेश्वर की ओर से और परमेश्वर के विषय में है, कलीसिया के जीवन के लिए है।
5 मई 2022

हमारा ईश्वरविज्ञान क्या है?

कई महत्वपूर्ण दृढ़ विश्वास टेबलटॉक  पत्रिका को वैसे ही संचालित करते हैं जैसे उन्होंने लिग्निएर की सेवकाई के पूरे इतिहास को संचालित किया। इनमें से एक दृढ़ विश्वास को लगभग पाँच सौ वर्ष पूर्व कोई और नहीं, वरन् मार्टिन लूथर द्वारा व्यक्त किया गया।