- लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़

लिग्निएर का ब्लॉग

हम डॉ. आर. सी. स्प्रोल का शिक्षण संघ हैं। हम इसलिए अस्तित्व में हैं ताकि हम जितने अधिक लोगों तक सम्भव हो परमेश्वर की पवित्रता को उसकी सम्पूर्णता में घोषित करें, सिखाएं और रक्षा करें। हमारा कार्य, उत्साह, और उद्देश्य है कि हम लोगों को परमेश्वर के ज्ञान और उसकी पवित्रता में बढ़ने में सहायता करें।

 
31 मई 2024

मसीही चरित्र

मसीही जीवन और सेवा के लिए मसीही चरित्र, विश्वासी जीवन में एक महत्वपूर्ण पहलू है। ख्रीष्ट ने अपने लोगों को छुड़ाया है जिससे कि वह उन्हें अपने स्वरूप में ढ़ाले।
29 मई 2024

अन्तहीन, अथाह, अपार अनुग्रह और तरस

नये नियम में सर्वाधिक और वास्तव में आधारभूत वर्णन यह है वह अर्थात् स्त्री या पुरुष “ख्रीष्ट में” एक जन है। यह वाक्याँश और इसके विभिन्न रूप प्रेरितों की शिक्षाओं में अत्यधिक पाए जाते हैं।
27 मई 2024

रोमियों (की पत्री) के महान विनिमय

जब सुसमाचार की अद्भुतता आपके जीवन में प्रवेश करती है, तो आपको ऐसा अनुभव होता है कि मानो जैसे आप पहले व्यक्ति हैं जिसने उसकी सामर्थ्य और महिमा को खोज लिया है।
24 मई 2024

परखने की क्षमता क्या है?

कुछ समय पहले मेरे एक परिचित व्यक्ति ने किसी बात पर एक ऐसा विचार व्यक्त किया जिसने मुझे आश्चर्यचकित कर दिया और कुछ अर्थों में निराश भी कर दिया।
22 मई 2024

शैतान कौन है?

वचन में शैतान शब्द का अर्थ “शत्रु” है। हम उसे (अंग्रेजी शब्द-Devil) डेविल के नाम से भी जानते हैं।
20 मई 2024

इसका क्या अर्थ है कि परमेश्वर अच्छा है?

परमेश्वर के दो गुण बताए जाते हैं: महानता और भलाई, जो कि बाइबल के एक शब्द "पवित्र" के द्वारा समझे जा सकते हैं।
17 मई 2024

मुझे भजन-संहिता क्यों प्रिय है?

हाल ही के एक सम्मेलन में मुझसे पूछा गया कि बाइबल की मेरी सबसे प्रिय पुस्तक कौन सी है। मेरी आरम्भिक प्रतिक्रिया यह सोचने की थी कि क्या यह एक बुरा प्रश्न है।
15 मई 2024

मेरे जीवन के लिए परमेश्वर की इच्छा क्या है?

परमेश्वर की अगुवाई के विषय में बाइबल क्या कहती है? यह कहती है कि यदि हम परमेश्वर को स्मरण करके अपने सब कार्य करें तो वह हमारे लिए सीधा मार्ग निकालेगा (नीतिवचन 3:5-6)।
13 मई 2024

प्रचार में उदाहरणों के उपयोग की आवश्यकता

हमारा भरोसा तकनीकों पर नहीं है। फिर भी, मार्टिन लूथर ने संचार (communication) के कुछ सिद्धान्तों की शिक्षा को जिन्हें वह महत्वपूर्ण मानते थे तिरस्कृत नहीं किया।