धन्य हैं वे जो मेल कराने वाले हैं | लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
धन्य हैं वे जिनके मन शुद्ध हैं
14 सितम्बर 2021
धन्य हैं वे जो धार्मिकता के कारण सताए जाते हैं
21 सितम्बर 2021

धन्य हैं वे जो मेल कराने वाले हैं

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का आठवां अध्याय है: धन्यवाणियाँ

हम में से अधिकतर लोग मेल-मिलाप चाहते हैं। हम में बहुत कम ऐसा कराने की इच्छा रखते हैं। यदि हम धन्य वाणियों में से शीघ्रता से निकल जाएं, तो हम मेल कराने को एक निष्क्रिय विशेषता के रूप में त्रुटिपूर्वक रीति से समझ सकते हैं, जो ऐसे लोगों में है जो अपने काम से काम रखते हैं। उनका गुण मुख्यतः मतभेद से बचने में पाया जाता है। परन्तु वह निश्चित रूप से यीशु की इच्छित शिक्षा नहीं है। एक मेल कराने वाले मतभेद से बचता नहीं है। एक मेल कराने वाला मतभेद का सामना करता है—उसे उकसाने के लिए नहीं, परन्तु उसका समाधान निकालने के लिए। मेल कराने वाला वह है जिसकी अवस्था मुख्यतः सक्रिय; न्याय, तालमेल, पश्चाताप, और मेल मिलाप के लक्ष्य में अनवरत है। सर्वोच्च मेल कराने वाले, यीशु का जीवन, प्रकट करता है कि यह कार्य प्रायः कितना कठिन और ख़तरनाक होता है।

आज हमारे मध्य ये मेल कराने वाले कौन हैं, और कैसे हम उस धन्य संख्या में जुड़ सकते हैं? ख्रीष्ट द्वारा कल्पित और प्रस्तुत मेल कराने के कार्य की दो दिशाएं हैं: परमेश्वर की ओर और मनुष्य की ओर। अपने स्वामी के पदचिन्हों पर चलते हुए, ख्रीष्ट के राज्य के नागरिकों को उनके सामने दोनों उद्देश्यों के साथ श्रम करने के लिए बुलाहट दी है। मूलतः, मेल कराने वाले वे हैं जो मतभेद निवारण में सुसमाचार का प्रचार और लागूकरण करते हैं। यदि हम उनकी श्रेणी में जुड़ना चाहेंगे, तो हमें हर एक मतभेद निवारण में सुसमाचार को लागू करने में अपने कौशल को प्रखर करना होगा।

इस प्रयास में सफलता पाने के लिए, हमें व्यक्तिगत शान्ति और परमेश्वर के साथ मेल-मिलाप के स्थान से कार्य करना चाहिए। इस अनुग्रकारी उपहार के होने से ही मेल कराने वाला दूसरों के जीवन में शान्ति लाने का प्रयास कर सकता है। यह चखने और देखने के बाद कि परमेश्वर भला है, वे पाते हैं कि उनके हृदय की महान इच्छा अन्य लोगों के लिए परमेश्वर और उनके आस पास के लोगों के साथ शान्ति का आनन्द लेना है।

ख्रीष्ट के शब्द हम में से उन लोगों के लिए सुधार के लिए सहायक हैं जो ईश्वरविज्ञानीय तर्क-वितर्क की सम्भावना से ऊर्जावान हैं परन्तु व्यक्तिगत मेल मिलाप के विचार से ऊब जाते हैं। यीशु ने वास्तव में चेतावनी दी थी कि सत्य क्लेश ले कर आएगा, परन्तु उसके मिशन का केन्द्र मेल कराना था। यदि हम परमेश्वर के साथ शान्ति पा चुके हैं, तो अन्यों के साथ और अन्यों के लिए शान्ति का पीछा करना हमारा भी केन्द्रीय उद्देश्य होना चाहिए।

यह ऐसा कार्य नहीं है जिसे हम अपनी सामर्थ्य में पूरा कर सकें। शान्ति वहीं फल-फूल सकती है जहाँ हृदयों के भीतर गहरा और स्थायी परिवर्तन हो। निःशुल्क और अयोग्य अनुग्रह जो परमेश्वर के साथ हमारी शान्ति को सुरक्षित रखता है वही अनुग्रह है जो दूसरों के हृदयों में शान्ति बनाने के लिए आवश्यक है। इसे स्मरण रखें जब आप प्रियजनों और परमेश्वर या अपनी कलीसिया के सदस्यों और समुदाय के मध्य मतभेद के कारण चिन्तित होते हैं। अनुग्रह की आवश्यकता है। अपने मेल कराने के प्रयासों को प्रार्थना में नहलाएं। परमेश्वर से अपने असिद्ध कार्य को सर्वोच्च विश्वासयोग्य पुत्र के कारण सम्मानित करने को कहें।

मेल कराने वालों से प्रतिज्ञा की गई आशीष अनूठे अनुलोदन परमेश्वर के पुत्र  है। मत्ती के सुसमाचार के पिछले अध्यायों में, हमने यीशु के बपतिस्मा को देखा, जिस समय परमेश्वर ने स्वर्ग से घोषणा की, “यह मेरा प्रिय पुत्र है।” अब यीशु भी अपने राज्य के नागरिकों को समान उपाधि प्रस्तावित करता है। क्या ही प्रोत्साहन की बात है यह। मेल कराना केवल कठिन ही नहीं है; यह धन्य भी है।

यीशु द्वारा बनायी गयी शान्ति में दृढ़ता से जड़वत होकर, आज के मेल कराने वालों को उसके जीवन को एक आदर्श के रूप में देखना चाहिए। उसके मेल कराने ने उसके लिए धार्मिक अगुवों की घृणा और उसके परिवार के ठट्ठे को अर्जित किया। उसका मेल कराना उसे बगीचे में ले गया, शान्तिपूर्ण विश्राम के लिए नहीं, परन्तु मध्यरात्रि के संघर्ष के लिए; शीतल सुख के लिए नहीं, परन्तु सर्वशक्तिशाली क्रोध के उमड़ते प्याले के लिए। उसका मेल कराना उसे क्रूस पर ले गया। यह उसे बाहरी अन्धकार की ओर ले गया।

यह उसे मुकुट, सिंहासन, और हर एक जाति, भाषा और राष्ट्र के लोगों की ओर भी ले गया। यह मेल कराने वालों का भाग्य है। उनकी देह घावों से क्षतिग्रस्त है और उनका तिरस्कार हुआ है, परन्तु उनकी फसल भरी पूरी है और उनकी उपाधि लज्जा का कारण नहीं है। वे परमेश्वर के पुत्र कहलाएंगे।  

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
डर्क नावेस
डर्क नावेस
डर्क नावेस लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़ के मुख्य रचनात्मक अधिकारी और ग्रैण्ड रैपिड्स, मिशिगन में प्योरिटन रिफॉर्म्ड थियोलॉजिकल सेमिनेरी के स्नातक हैं।