लेख

28 फ़रवरी 2021

ट्यूलिप और धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान : सीमित प्रायश्चित्त

मैं सोचता हूँ कि कैल्विनवाद के पाँच बिन्दुओं में, सीमित प्रायश्चित्त सबसे विवादास्पद है, और यही सम्भवतः सबसे अधिक भ्रम और व्याकुलता उत्पन्न करता है। यह सिद्धान्त मुख्यतः परमेश्वर के मूल उद्देश्य, योजना या अभिप्राय से सम्बन्धित है मसीह के क्रूस पर मरने के लिए संसार में भेजने में।
25 फ़रवरी 2021

ट्यूलिप और धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान: अप्रतिबन्धित चुनाव

चुनाव का धर्मसुधारवादी विचार, जो अप्रतिबन्धित चुनाव के नाम से भी जाना जाता है, का अर्थ है कि परमेश्वर पहले से कोई कार्य या हमारी स्थिति को नहीं देखते हैं जो उसे बाध्य करती है हमें बचाने के लिए। इसके विपरीत, चुनाव टिका हुआ है परमेश्वर की सार्वभौमिक निर्णय पर जिससे वह जिसे चाहता है उसे बचाता है।
24 फ़रवरी 2021

ट्यूलिप और धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान: सम्पूर्ण भ्रष्टता

सम्पूर्ण भ्रष्टता का सिद्धान्त दर्शाता है मूल पाप के विषय में धर्म सुधारवादी दृष्टिकोण को। ये शब्द—मूल पाप—प्रायः गलत समझा जाता है साधारण प्रयोग में।

लेख

28 फ़रवरी 2021

ट्यूलिप और धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान : सीमित प्रायश्चित्त

मैं सोचता हूँ कि कैल्विनवाद के पाँच बिन्दुओं में, सीमित प्रायश्चित्त सबसे विवादास्पद है, और यही सम्भवतः सबसे अधिक भ्रम और व्याकुलता उत्पन्न करता है। यह सिद्धान्त मुख्यतः परमेश्वर के मूल उद्देश्य, योजना या अभिप्राय से सम्बन्धित है मसीह के क्रूस पर मरने के लिए संसार में भेजने में।
25 फ़रवरी 2021

ट्यूलिप और धर्मसुधारवादी ईश्वरविज्ञान: अप्रतिबन्धित चुनाव

चुनाव का धर्मसुधारवादी विचार, जो अप्रतिबन्धित चुनाव के नाम से भी जाना जाता है, का अर्थ है कि परमेश्वर पहले से कोई कार्य या हमारी स्थिति को नहीं देखते हैं जो उसे बाध्य करती है हमें बचाने के लिए। इसके विपरीत, चुनाव टिका हुआ है परमेश्वर की सार्वभौमिक निर्णय पर जिससे वह जिसे चाहता है उसे बचाता है।

संसाधन

संसाधन

संसाधन

संसाधन