लेख

19 मई 2022

लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़ का इतिहास

पिट्सबर्ग में पॉइंट स्टेट पार्क में ग्रेनाइट स्मारक पर उकेरे हुए शब्द हैं “अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का स्थान।” इस स्थान ने, जिसका नाम तीन नदियाँ (Three Rivers) है, उपनिवेशी युग में एक निर्णायक भूमिका निभायी। किन्तु 1750 के दशक में, कुछ ही लोगों ने सम्भवतः उस स्थान पर घटित घटनाओं के पूर्ण महत्व का आभास किया था। परन्तु प्रभाव बहुत बड़े थे, और वह शताब्दियों तक बना रहा। अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का यह स्थान आर. सी. स्प्रोल और वेस्टा (वूर्हिस) स्प्रोल के बचपन के घर से उत्तर-पश्चिम में दस मील की दूरी पर था।   
17 मई 2022

परमेश्वर की महिमा के लिए ईश्वरविज्ञान

ईश्वरविज्ञान के अध्ययन को कभी स्वयं में अन्त नहीं होना चाहिए। ठोस सिद्धान्त का लक्ष्य कभी ऐसे लोगों को उत्पन्न करना नहीं जिनके मस्तिष्क भरे हुए हैं परन्तु ऐसे लोगों को उत्पन्न करना है जिनके हृदय खाली और जीवन बंजर हैं।
12 मई 2022

ईश्वरविज्ञान और प्रतिदिन का जीवन

प्यूरिटन विलियम पर्किन्स ने प्रसिद्ध रूप से ईश्वरविज्ञान को “सदैव के लिए धन्य जीवन जीने का विज्ञान” के रूप में परिभाषित किया है।

लेख

19 मई 2022

लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़ का इतिहास

पिट्सबर्ग में पॉइंट स्टेट पार्क में ग्रेनाइट स्मारक पर उकेरे हुए शब्द हैं “अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का स्थान।” इस स्थान ने, जिसका नाम तीन नदियाँ (Three Rivers) है, उपनिवेशी युग में एक निर्णायक भूमिका निभायी। किन्तु 1750 के दशक में, कुछ ही लोगों ने सम्भवतः उस स्थान पर घटित घटनाओं के पूर्ण महत्व का आभास किया था। परन्तु प्रभाव बहुत बड़े थे, और वह शताब्दियों तक बना रहा। अन्तर्राष्ट्रीय प्रभाव का यह स्थान आर. सी. स्प्रोल और वेस्टा (वूर्हिस) स्प्रोल के बचपन के घर से उत्तर-पश्चिम में दस मील की दूरी पर था।   
17 मई 2022

परमेश्वर की महिमा के लिए ईश्वरविज्ञान

ईश्वरविज्ञान के अध्ययन को कभी स्वयं में अन्त नहीं होना चाहिए। ठोस सिद्धान्त का लक्ष्य कभी ऐसे लोगों को उत्पन्न करना नहीं जिनके मस्तिष्क भरे हुए हैं परन्तु ऐसे लोगों को उत्पन्न करना है जिनके हृदय खाली और जीवन बंजर हैं।