हमें दिखाइए कि कैसे अच्छी रीति से पूरा करें| लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
अपने बच्चों और जीवनसाथी से प्रेम करें
8 जून 2021
आशा के साथ दुख उठाइए
12 जून 2021

हमें दिखाइए कि कैसे अच्छी रीति से पूरा करें

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का आठवां अध्याय है: पीढ़ी से पीढ़ी

अच्छी रीति से पूरा करना अभी आरम्भ होता है। यह सम्भवतः वृद्धावस्था को स्वीकार करने के लिए यह एक युगों का संघर्ष है, पर युवा ख्रीष्टियों को वृद्ध सन्तों के उदाहरणों की आवश्यकता है जिन्होंने अपनी उम्र को गले लगा लिया है और जो अपने बाद के वर्षों में आत्मिक फल उत्पन्न कर रहे हैं।

वृद्ध मित्रों का प्रोत्साहन एक विशेष आशीष है। सिडनी मुझ से लगभग साठ वर्ष बड़े थे, पर उनके जीवन के अन्तिम कुछ वर्षों में, वह मेरे सबसे घनिष्ठ मित्रों में से एक थे। वे मुझे फोन करते थे, और उनके पहले शब्द प्रायः होते थे, “यह बूढ़ा आदमी बोल रहा है।” सिडनी ने अपनी उम्र को गले लगा लिया, और जैसे-जैसे उन्होंने कई दशकों तक परमेश्वर के प्रेम का आनन्द लिया, वे अच्छी रीति से पूरा करने के लिए समर्पित थे।

सिडनी ने तीन शब्दों के साथ मुझे दिखाया कि कैसे अच्छी रीति से पूरा करें। एक अवसर पर, मैं उनके साथ एक मरते हुए मित्र को देखने गया, और सिडनी अपने मित्र की ओर झुके, उसके साथ शांतिपूर्वक बातें की, उसके साथ प्रार्थना की, और उसके बाद अपने मित्र से कहा, “बिली, तीन शब्द: मैं तुमसे प्रेम करता हूँ (आई लव यू)।” उतना ही था—तीन शब्द जो सरल लेकिन उल्लेखनीय हैं। और ये थे सिडनी—वे लोगों को सरल किन्तु उल्लेखनीय रीतियों से प्रेम करते थे। चाहे उनकी पत्नी हो, जब वह अल्ज़ायमरज़ से पीड़ित थी, या उनके डॉक्टर और नर्स जिन्होंने कैंसर और स्ट्रोक के समय में उनकी देखभाल की, या उनका वेटर जो उन्हें दोपहर के भोजन से पहले कॉफी लाता था, सिडनी उनके विषय में जानना चाहते थे, यह जानना चाहते थे कि वे कैसे थे, और यह जानना चाहते थे कि कैसे वह उनकी सहायता कर सकते हैं और उनके लिए प्रार्थना कर सकते हैं। मैंने उस “बूढ़े आदमी” को तीन सरल शब्दों के माध्यम से परमेश्वर एवं दूसरों की सेवा करते देखा।

किसी को अच्छी रीति से पूरा करते हुए देखने की बड़ी आशीष इस बात को सीखना नहीं है कि कल कैसे जीना है; वास्तव में, इस बात को सीखना है कि आज कैसे जीना है। वे पुरुष और महिलाएं जो जीवन के दूसरे भाग में परिपक्वता और परमेश्वर के प्रति विश्वासयोग्यता के साथ निरन्तर बने हुए हैं युवा पीढ़ी के लिए उनके जैसे जीवन जीने के लिए एक प्रोत्साहन हैं।

हम नए नियम में पढ़ते हैं कि कैसे तीमुथियुस ने विश्वासयोग्य और ईश्वरभक्त उदाहरणों की आशीषों का आनन्द लिया। न केवल उसकी नानी लोइस और उसकी माँ यूनीके ने आदर्श रखा और विश्वास के विषय में सिखाया, पर पौलुस ने भी अच्छी कुश्ती लड़ी थी, दौड़ पूरी की थी, और विश्वास को बनाए रखा था। तीमुथियुस को परमेश्वर की बुलाहट में परिश्रमी और फलदायी होने के लिए वृद्ध पुरुषों और महिलाओं से सीखे गए शिक्षाओं की आवश्यकता थी। उन कुछ बातों के विषय में सोचिए जिनमें होकर पौलुस ने अच्छी रीति से अन्त किया:

  • वह अन्त तक प्रार्थना, स्तुति, आराधना और आज्ञाकारिता में परमेश्वर के प्रति समर्पित था।
  • उसने अनुग्रह और साहस के साथ परीक्षाओं को सहा।
  • वह नम्रता, संतुष्टि, कृतज्ञता, आनन्द और आशा के साथ जीता था।
  • वह दूसरों से प्रेम करता था और उनकी सेवा करता था, तब भी जब यह उसके लिए कठिन था।
  • उसने अगली पीढ़ी को सेवकाई के लिए स्मरण रखा और प्रशिक्षित किया।
  • वह मृत्यु के लिए तैयार था और ख्रीष्ट के साथ रहने के लिए उत्सुक था।

पौलुस ने “दौड़ पूरी कर ली,” और उसका सम्पूर्ण जीवन का आकार परमेश्वर के अनुग्रह और अटलता का एक चित्र था, परन्तु वास्तव में, पौलुस के जीवन की प्राथमिकताएँ किसी भी उम्र में प्रमुख चिताएँ हैं।

व्यस्त कार्यक्रम, दैनिक दबाव और यीशु का अनुसरण करने के मूल्य का सामना करते समय, युवा विश्वासी जानना चाहते हैं कि सब कुछ ठीक हो जाएगा। हमारे पापी भय और संसार के झूठ इस बात पर बल देते हैं कि सफलता और आनन्द का पीछा किसी भी मूल्य पर किया जाना चाहिए, पर परिपक्व विश्वासियों के पास दूरदर्शिता और दृष्टिकोण का लाभ है कि परमेश्वर का मार्ग सबसे उत्तम मार्ग है। हमें यह प्रमाणित करने के लिए बुद्धि और वृद्ध उम्र के उदाहरणों की आवश्यकता है कि परमेश्वर विश्वासयोग्य है और उसके प्रति विश्वासयोग्य होना, अन्त में, वह एक ही बात है महत्व रखता है।

कोई नहीं जानता कि आने वाला कल क्या लेकर आएगा, और हम सदैव जीवन के नए और अपरिचित चरणों में प्रवेश कर रहे हैं। परमेश्वर हमें हमारी योजना पहले समाप्त करने के लिए बुला सकता है, पर परमेश्वर अनुग्रहकारी है। वास्तव में, भजनकार हमें अनुसरण करने के लिए एक प्रार्थना और मार्ग प्रदान करता है:

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
विली लॉवरी
विली लॉवरी
रेव. विली लॉवरी जैक्सन, मिस्सिस्प्पी में फर्स्ट प्रेस्बिटेरियन चर्च में पास्टरीय देख-रेख के सेवक और बेलहेवन विश्वविद्यालय में सहायक प्रोफेसर हैं।