बैतलहम से एक शासक | लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
शान्ति का राजकुमार
9 जुलाई 2021
वास्तविक सफलता
12 जुलाई 2021

बैतलहम से एक शासक

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का सातवां अध्याय है: प्रतिज्ञात मसीहा

दन्तकथा के अनुसार, राजा आर्थर एवलॉन के रहस्यमय द्वीप पर है, ब्रिटेन को उसकी सबसे बड़ी आवश्यकता के समय बचाने के लिए लौटने की प्रतीक्षा करते हुए। एक दिन, सबसे अन्धेरा दिन, ब्रिटेन का “एक बार और भविष्य का राजा” प्रकट होगा। आर्थर, निश्चित रूप से, मिथ्या का भाग है। परन्तु मीका नबी एक सच्चे राजा के विषय में जानता था, जिसका मूल “पुराने समय” से था और अपने लोगों को बचाने के लिए अप्रत्याशित रूप से आएगा। 

मीका ने, जो यशायाह का समकालीन व्यक्ति था, बड़े संकट के समय में इस्राएल से परमेश्वर का वचन बोला। सामरिया (इस्राएल का उत्तरी राज्य) और यहूदा (दक्षिणी राज्य) दोनों के पापों के कारण, इस्राएलियों को एक विनाशकारी आक्रमण का सामना करना पड़ेगा। सामर्थी अश्शूर का साम्राज्य परमेश्वर के लोगों पर विजय प्राप्त कर लेगा और उन पर हावी हो जाएगा— सामरिया “मैदान के खण्डहर का ढेर” के समान छोड़ दिया जाएगा (मीका 1:6) और विपत्ति “यरूशलेम के फाटक तक” भी आ जाएगी (पद 12)। अधिकांश दोष इस्राएल के अगुवों पर था।

ये शासक, अपने लोगों की रक्षा करने और उनके लिए उपलब्ध कराने से कोसों दूर,  नरभक्षी, हत्या और भक्षण करने वाले बन गए थे। वे “मेरी प्रजा का मांस खाते, उनकी चमड़ी उतारते, और उनकी हड्डियां तोड़ते, और उन्हें हांडी के मांस तथा हण्डे की बोटी के समान टुकड़े-टुकड़े कर देते हो” (मीका 3:3)। इसमें कोई आश्चर्य नहीं है कि वर्षों बाद यिर्मयाह नबी ने वर्षों बाद मीका के सन्देश को सारांशित किया उसके एक सबसे अपशकुनी भविष्यद्वाणी का उद्धरण करने के द्वारा। 

मोरसेतवासी मीका ने यह नबूवत की…

“सिय्योन खेत की तरह जोता जाएगा और यरूशलेम खण्डहर बन जाएगा और भवनवाला पर्वत ऊंचा जंगली स्थान बन जाएगा।” (यिर्मयाह 26:18, मीका 3:12 का उद्धरण करते हुए)

इस अन्धकारमय, भयंकर संसार में मीका ने न केवल न्याय के शब्द पर आशा के भी वचन बोले। हमारे पद में, यह आशा एक नम्र स्थान और अलौकिक शासक पर केन्द्रित है।

एक नम्र स्थान 
“परन्तु हे…” मीका का शुभ सन्देश आरम्भ होता है। सामरिया मलबा है, यरूशलेम उजड़ गया है, परन्तु किसी के लिए आशा है। आश्चर्य रीति से, कि “किसी” कोई व्यक्ति नहीं परन्तु एक स्थान है: बैतलहम एप्राता। “मेरे लिए तुझ में से एक पुरुष निकलेगा जो इस्राएल पर प्रभुता करेगा।”

यहूदा की राजधानी, सामर्थी यरूशलेम के स्थान पर, जिसमें राजकीय महल था, बचाने वाला राजा नम्र बैतलहम से आएगा। बैतलहम कहीं नहीं था: यरूशलेम के दक्षिण-पश्चिम में एक छोटा सा नगर। फिर भी 700-730 ईसा पूर्व के आसपास, मीका ने नबूवत की थी इस पिछड़े हुए गाँव से एक मसीहा का जन्म होगा।

और इस प्रकार ऐसा हुआ। मत्ती के सुसमाचार में, हम पढ़ते हैं कि “ राजा हेरोदेस के दिनों में जब यहूदिया के बैतलहम में यीशु का जन्म हुआ” (2:1)। परमेश्वर की योजना में, रोमी साम्राट ने एक आदेश जारी किया था कि प्रत्येक नागरिक को अपने नगर लौटना था। और इसलिए मरियम और यूसुफ नासरत से बैतलहम की यात्रा करने के लिए निकल पड़े। साम्राट भले ही जनगणना की योजना बना रहा हो, परन्तु परमेश्वर यह सुनिश्चित कर रहा था कि मीका के माध्यम से उसका वचन पूरा होगा।

मीका के दिनों के जैसे, इस्राएल का एक लोभी और दुष्ट शासक था। हेरोदेस महान स्वयं को एक और “नरभक्षी राजा” के रूप में प्रकट करेगा जब उसने बैतलहम में सभी लड़को को मार डालने की आज्ञा दी, और बाद में हेरोदेस ऐन्टिपास का पिता होगा, जिसने बाद में यूहन्ना के सिर को कटवाकर थाल में प्रस्तुत किया। परन्तु इस अन्धकार के मध्य, राजा आ गया था। वास्तव में, मीका की नबूवत को उद्धरित किया गया जब हेरोदेस मुख्य याजकों और शास्त्रियों से पूछता है कि ख्रीष्ट का जन्म कहाँ होना चाहिए था। वे उत्तर देते हैं “यहूदिया के बैतलहम में, क्योंकि नबी के द्वारा ऐसा लिखा गया है” (मत्ती 2:5)।

एक अलौकिक शासक
परन्तु मीका हमें इस शासक के जन्मस्थान के अतिरिक्त और भी बहुत कुछ बताता है। हम उसके परिवार की उत्पत्ति के विषय में भी सीखते हैं। यह शासक वह होगा, “जिसका आना प्राचीन काल से वरन्अनादिकाल से है।” मीका हमें ख्रीष्ट के विषय में क्या बता रहा है?

यह देखते हुए की नबूवत बैतलहम को सम्बोंधित करती है, यह सम्भव है कि सबसे पहले उस समय उस नगर के सबसे प्रसिद्ध पुत्र के लिए एक संकेत है। राजा दाऊद ने, जो मीका की नबूवत से कई वर्ष पहले, इस्राएल के राजकीय वंश का संस्थापक बैतलहम में जन्म लिया। भविष्य का शासक इस मूल से होगा। यीशु प्राचीनकाल से राजा दाऊद का वंशज है। उसमें प्राचीन, राजकीय लहू है।

परन्तु मेरे विचार से मीका हमें और अधिक बता रहा है। ख्रीष्ट की उत्पत्ति दाऊद, इब्राहीम, या यहाँ तक स्वयं सृष्टि से भी बहुत प्राचीन है। भजन 74:12 हमें बताता है कि “परमेश्वर प्राचीनकाल से मेरा राजा है”, यह यही वाक्यांश है जिसे मीका ख्रीष्ट का वर्णन करने के लिए उपयोग करता है। मीका संकेत दे रहा है कि यीशु की उत्पत्ति केवल दाऊद के वंश से नहीं परन्तु ईश्वरीय है। वह परमेश्वर पुत्र है, और परमेश्वर के रूप में, उसका कोई आरम्भ नहीं है। वह सर्वदा से अस्तित्व में रहा है। 

इसलिए, शासन के स्थानों से बहुत दूर, यीशु ख्रीष्ट ने, जो दाऊद के वंशज से अपने गोद लिए हुए पिता, युसुफ के द्वारा आया, बैतलहम में जन्म लिया। परमेश्वर स्वयं राज्य करने तथा बचाने आया। वह अप्रभावी प्रतीत हुआ। उसका जन्म स्थान अशुभ था। परन्तु सदा से परमेश्वर इसी प्रकार कार्य करता है: क्रूस के निर्बल और मूर्ख सन्देश के द्वारा वह बचाने के लिए संसार में आया— मीका के अश्शूरियों से खतरे से कहीं अधिक बढ़कर। और यह कितना सटीक है कि बैतलहम का अर्थ है “रोटी का घर।” उसके लिए एक उपयुक्त जन्म स्थान जो हेरोदेस और मीका के समय के नरभक्षी राजाओं के विपरीत, अपने लोगों को खिलाने के लिए आया था। जीवन की रोटी,  रोटी के घर में, चारा खाने वाले चरनी में, लेटा हुआ है। 

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
जॉन्टी रोड्स
जॉन्टी रोड्स
रेव जॉन्टी रोड्स इग्लैंड के लीड्स में क्राइस्ट चर्च सेन्ट्रल लीड्स के सेवक हैं। वे वाचाएं सरल बना दी गईं: अपने लोगों के लिए परमेश्वर की विकसित होने वाली प्रतिज्ञाओं को समझना (Covenants Made Simple: Understanding God’s Unfolding Promises to His People) के लेखक हैं।