कलीसियाई सदस्यता - लिग्निएर मिनिस्ट्रीज़
सेवात्मक और घोषणात्मक अधिकार
9 नवम्बर 2021
मध्यवर्ती अवस्था
16 नवम्बर 2021

कलीसियाई सदस्यता

सम्पादक की टिप्पणी: यह टेबलटॉक पत्रिका श्रंखला का सातवांअध्याय है: त्रुटिपूर्वक समझे गए सिद्धान्तद

आप ऐसे माता और पिता के विषय में क्या सोचेंगे, जो अपने नवजात बच्चे के संसार में जन्म के पश्चात, उसे स्वयं की देखभाल करने के लिए छोड़ देते हैं? यह बच्चे के लिए विनाशकारी होगा, और माता-पिता बाल शोषण के दोषी होंगे। यीशु अपने नवजात आत्मिक बच्चों के साथ क्या करता है? यहाँ, कम से कम आंशिक अर्थ में, कलीसियाई सदस्यता का सार और महत्व है। जो लोग पिता के द्वारा चुने गए हैं, पुत्र के द्वारा मोल लिए गए हैं, और पवित्र आत्मा के द्वारा नया जन्म प्राप्त किए गए हैं, उन्हें संसार, शरीर, और शैतान के विरुद्ध स्वयं को बचाने के लिए नहीं छोड़ दिया जाता है। यीशु अपने नवजात बच्चों को लेता है जिन्हें पवित्र आत्मा द्वारा अदृश्य कलीसिया में बपतिस्मा दिया गया है, और उन्हें पानी के बपतिस्मा की विधि के द्वारा दृश्य कलीसिया में बपतिस्मा देता है। पानी के बपतिस्मा के द्वारा, यीशु नए विश्वासियों और विश्वासियों के बच्चों को दृश्य कलीसिया में लाता है। जब एक व्यक्ति त्रिएक परमेश्वर के नाम में पानी से बपतिस्मा लेता है, तो उसे दृश्य कलीसिया की सदस्यता में जोड़ा जाता है और वहाँ उसकी देखभाल और आत्मिक रूप से पालन-पोषण किया जाता है। 

मैं निश्चित हूँ कि कलीसियाई सदस्य को महत्व न देने के कारणों में से एक यह है कि इसे एक साधन के रूप में नहीं समझा जाता है जिसके द्वारा अच्छा चरवाहा अपनी भेड़ों की देखभाल करता है। कलीसिया उसका झुण्ड है। उसने अपनी भेड़ों के लिए अपना जीवन दे दिया। उसने उन्हें अपने लहू के द्वारा दाम देकर मोल लिया है, और वह उन्हें इस पृथ्वी पर पृथक रूप से और व्यक्तिगत रूप से स्वयं का देखभाल करने के लिए नहीं छोड़ता है। वेस्टमिंस्टर विश्वास अंगीकार कहता है, “बपतिस्मा नये नियम की एक विधि है, जिसे यीशु ख्रीष्ट के द्वारा नियुक्त किया गया था … दृश्य कलीसिया में बपतिस्मा लेने वाले पक्ष के गम्भीर स्वीकृति के लिए” (27:1)। कोई पूछ सकता है कि बाइबल में सदस्यता कहाँ पाई जाती है? इसका उत्तर यह है, पानी बपतिस्मा के अभ्यास में। नए नियम में, जब कोई विश्वास करता है, और उसके बपतिस्मे के द्वारा दृश्य कलीसिया की सदस्यता में जोड़ा जाता है, 

चरवाहों के रूप में कार्य करने वाले अगुवों के अधिकार और देखरेख में। इसी प्रकार से यीशु पृथ्वी पर अपनी कलीसिया की देखभाल करता है। वे तीन हज़ार लोग जिन्होंने पिन्तेकुस्त के दिन बपतिस्मा लिया यरूशलेम की कलीसिया के सदस्यता में जोड़े गए प्रेरितों के संरक्षण में। 

बहुत लोग बपतिस्मा और सदस्यता के बीच के सम्बन्ध को देखने में विफल होते हैं, और इस प्रकार वे निरीक्षण और देखभाल के महत्व को देखने में विफल हो जाते हैं जो एक व्यक्ति को बपतिस्मा लेने और कलीसिया की सदस्यता में जोड़े जाने पर स्थापित होता है। सदस्यता के बिना, कलीसिया के किसी भी अगुवा के लिए यह निर्धारित करना असम्भव है कि वह ख्रीष्ट के कौन सी भेड़ के लिए उत्तरदायी है। 1 पतरस 5:2-3 में पतरस कलीसिया के प्राचीनों को यह कहकर प्रोत्साहित करता है, “अपने मध्य स्थित परमेश्वर के झुण्ड की रखवाली करो… जो लोग तुम्हें सौंपे गए हैं, उन पर प्रभुता न जताओ।” न्यू अमेरिकन स्टैण्डर्ड बाइबल इस वाक्यांश  “जो लोग तुम्हें सौंपे गए हैं” का अनुवाद इस प्रकार करती है, “जिन लोगों का उत्तरदायित्व तुम्हें सौंपा गया है।” अच्छे चरवाहे ने अपनी भेड़ों की रखवाली और देखभाल करने के लिए विशेष प्राचीनों को सौपां है जो अपने उप-चरवाहों के रूप में कार्य करते हैं। निश्चय ही, प्रेरित उन भेड़ों को जानते थे जिनकी रखवाली के लिए ख्रीष्ट ने उनको ठहराया था। बपतिस्मा के द्वारा सदस्यता के बिना, प्रेरित यह नहीं जान पाते कि कौन से लोग यीशु के थे और किसके लिए वे उत्तरदायी थे। सदस्यता के बिना, भेड़ें यह नहीं जान सकतीं है कि वे चरवाहे कौन हैं जिनका उन्हें अनुसरण करना है और वे किसकी आज्ञाकारिता के पात्र हैं। इब्रानियों का लेखक विश्वासियों को प्रोत्साहित करता है, “अपने अगुवों की आज्ञा मानों और उनके अधीन रहो, क्योंकि वे तुम्हारे प्राणों की यह जानकर चौकसी करते हैं, कि उन्हें उसका लेखा देना है” (13:17)।

जब किसी को भी अदृश्य या आत्मिक कलीसिया में जोड़ा जाता है, वह अन्धकार के साम्राज्य से छुड़ाया जाकर [परमेश्वर के ] प्रिय पुत्र के राज्य में प्रवेश कराया गया है” (कुलुस्सियों 1:13)। विश्वासियों के लिए, पृथ्वी पर दृश्य या भौतिक कलीसिया में सदस्यता अदृश्य या आत्मिक कलीसिया में सदस्यता से मेल खाती है। पृथ्वी पर पुरुष को इससे बड़ा कोई सौभाग्य नहीं दिया जा सकता है। संसार से (मृत्यु, अन्धकार, और नरकदण्ड का क्षेत्र) और कलीसिया में (जीवन, ज्योति, छुड़ाने वाले प्रेम का क्षेत्र) स्थानांतरित किया जाना इस पृथ्वी पर मनुष्य को दिया गया सबसे बड़ी आशीष है। दृश्य कलीसिया में यीशु हमें हमारे आत्मिक वृद्धि के साधनों की प्रचुर आपूर्ति प्रदान करता है: वचन, कलीसियाई विधियाँ, प्रार्थना, संगति, अनुशासन, इत्यादि।

वास्तव में, कलीसियाई अनुशासन का अभ्यास एक स्थानीय, दृश्य देह में सदस्यता के विचार के आधार पर बना है। मत्ती 18:17 में, यीशु एक अपश्चातापी विश्वासी को सम्बोधित करता है जब वह कहता है, “यदि वह कलीसिया की न सुने तो वह तेरे लिए अन्यजाति और कर वसूल करने वाले के समान ठहरे।” यह माना जाता है कि व्यक्ति यीशु और उसके कलीसिया के साथ एकता में है, परन्तु यदि वह पश्चाताप नहीं करेगा, तो उसे कलीसिया की सहभागिता से हटा दिया जाना चाहिए। 1 कुरिन्थियों 5:2 में जब पौलुस ने पश्‍चाताप न करने वाले व्यक्ति को हटा दिया, तो उसने निश्चित रूप से इसे इसी प्रकार देखा। वह लिखता है, “ऐसा करने वाला तुम्हारे मध्य से निकाला जाता।” यदि सदस्यता नहीं है, तो किसी को कलीसिया से हटाने का विचार व्यर्थ है। किसी को कलीसिया से हटाना तभी अर्थपूर्ण है जब वह परमेश्वर के लोगों के साथ वाचा में सहभागी रहा है, और ख्रीष्ट और उसकी देह से जुड़ा है। प्रेरित पौलुस रोमियों 12:5 में कहता है, “वैसे ही हम भी जो अनेक हैं, ख्रीष्ट में एक देह हैं, और एक दूसरे के अंग हैं।”

ख्रीष्ट की देह में सदस्यता ख्रीष्ट के साथ मिलन का परिणाम है। पवित्र आत्मा के बपतिस्मा (एक आन्तरिक, अदृश्य, आत्मिक वास्तविकता) के द्वारा, विश्वासी यीशु के साथ एक हो जाते हैं और उनके विश्वव्यापी कलीसिया का भाग बन जाते हैं, और पानी के बपतिस्मा (एक बाहरी, दृश्य, भौतिक चिह्न) द्वारा विश्वासियों और उनके बच्चों को एल्डरों की रखवाली में, दृश्य, कलीसिया में जोड़ा जाता है। सदस्यता आत्मिक देखभाल और उत्तरदायित्व के विषय में है। यह ख्रीष्ट की दुल्हन में सम्मिलित होने की आशीष, और उसके चरवाही के रूप में निरीक्षण का लाभ है। कलीसिया में ख्रीष्ट का प्रभुत्व सबसे स्पष्ट रूप से प्रकट होता है जब सदस्य प्रभु के दिन स्वयं को एकत्रित करते हैं, दशवांश और भेंट देने के द्वारा सहायता प्रदान करते हैं, एक दूसरे की सेवा करने के लिए अपने आत्मिक वरदानों का उपयोग करते हैं, और संसार में उसके सुसमाचार की घोषणा करते हैं।  

यह लेख मूलतः टेबलटॉक पत्रिका में प्रकाशित किया गया।
रोलैंड बार्न्स
रोलैंड बार्न्स
रेव्ह. रोलैंड बार्न्स स्टेट्सबोरो, जॉर्जिया में ट्रिनिटी प्रेस्बिटेरियन चर्च (पीसीए) के वरिष्ठ पास्टर हैं।