यीशु के दृष्टान्त

टेबलटॉक का फरवरी 2020 प्रकाशन पाठकों को यीशु के दृष्टान्तों का अध्ययन प्रदान करेगा। सम्भवतः यीशु की शिक्षण सेवकाई का कोई अन्य पहलू उसके द्वारा दृष्टान्तों से अधिक चिर-परिचित नहीं है। वास्तव में, उसकी सेवा में दृष्टान्त इतने केन्द्रीय थे कि मत्ती 13:34 हमें बताता है कि यीशु “दृष्टान्त के बिना [अपने श्रोताओं] से कुछ नहीं कहता था।” इनमें से कई दृष्टान्त इतने प्रसिद्ध हैं कि उनके शीर्षक सामान्य वार्तालाप में अन्य बातों के लिए उपयोग किए जाते हैं (उदाहरण के लिए, “अच्छा सामरी” एक ऐसे व्यक्ति के रूप में जो दूसरों की सहायता करता है)। अन्य दृष्टान्त कम जाने पहचाने हैं, जिनको व्यापक संस्कृति तो दूर, कलीसिया में भी कम जाना जाता है।

टेबलटॉक का यह प्रकाशन हमारे प्रभु के कई दृष्टान्तों को अर्थप्रकाशित करेगा, जिसका उद्देश्य पाठकों को ख्रीष्ट की शिक्षा को ठीक रीति से समझने में सहायता करना है।
 

 
23 नवम्बर 2021

दक्ष कहानीकार

मुझे अच्छी कहानी पसन्द है। हालाँकि, मैंने पाया है कि अधिकाँश कहानियाँ, विशेषतः हाल की, उतनी अच्छी नहीं हैं। वास्तव में अच्छी कहानियाँ प्रायः बहुत पुरानी होती हैं। वे समय की कसौटी पर खरी उतरी हैं।
23 नवम्बर 2021

राई के बीज और ख़मीर का दृष्टान्त

पृथ्वी पर उसकी सेवकाई के आरम्भ से ही यीशु की शिक्षा में परमेश्वर का राज्य का एक महत्वपूर्ण स्थान था (मत्ती 4:17; मरकुस 1:15; लूका 4:43)। उसने घोषित किया कि उसका पृथ्वी पर आने का अर्थ है कि परमेश्वर का राज्य निकट है।
29 नवम्बर 2021

धनी मूर्ख का दृष्टान्त

लूका के सुसमाचार के अध्याय 12 के आरम्भ में, हम यीशु को हज़ारों की भीड़ से घिरा पाते हैं जब वह उन्हें फरीसियों के ख़मीर से सावधान करता है (पद 1)। इसके तुरन्त बाद, वह दूसरी चेतावनी के साथ जारी रखता है कि किस से भय रखना है, यह कहते हुए:
2 दिसम्बर 2021

चालाक प्रबन्धक का दृष्टान्त

हमारा दृष्टान्त “किसी धनवान मनुष्य” के साथ प्रारम्भ होता है जिसका “प्रबन्धक” या भण्डारी है। (यूनानी ओइकोनोमोस; लूका 16:1) ओइकोनोमोस  प्राचीन जगत में एक भरोसेमन्द सेवक था जो अपने स्वामी की वस्तुओं को उसके ग्राहकों को बांटता था और उन लोगों का खरा रिकॉर्ड रखता था जो उसके स्वामी के देनदार थे।
7 दिसम्बर 2021

ज़मींदारों और मज़दूरों का दृष्टान्त

कोई भी व्यक्ति हमारे प्रभु यीशु से अधिक साहसी नहीं था। ठीक उनके मुख पर और अपने जीवन को खतरे में रख कर, उसने अपनी पीढ़ी में परमेश्वर के लोगों के आत्म-लीन अगुवों की बुरी मंसाओं को उजागर किया।
9 दिसम्बर 2021

उगने वाले बीज का दृष्टान्त

जब कि मैं यह लिख रहा हूँ, मैं म्यूनिक, जर्मनी में अपने कार्यालय में अपनी मेज़ पर बैठा, जर्मनी में मसीहियत के नवीनतम आंकड़ों के बारे में सोच रहा हूँ। मेरे सामने के संख्याओं के अनुसार, मसीहियत का तीव्रता से पतन हो रहा है।
14 दिसम्बर 2021

गुप्त धन और अमूल्य रत्न के दृष्टान्त

ये दो दृष्टान्त सम्भवतः यीशु के सबसे सरल और निश्चित रूप से सबसे छोटे हैं, और फिर भी जो प्रहार ये करते हैं वह इनकी शब्द संख्या से कहीं अधिक है। वे इतने स्मरणीय क्यों प्रमाणित हुए? क्योंकि यह हमारी परमेश्वर द्वारा प्रदान कल्पना का उपयोग करते हैं।
16 दिसम्बर 2021

खोई हुई भेड़ और सिक्के के दृष्टान्त

इन दोनों प्रसिद्ध दृष्टान्तों का सन्दर्भ, जो कि उससे भी कहीं अधिक प्रसिद्ध उड़ाऊ पुत्र के दृष्टान्त की ओर लेकर के जाता है, यह है कि यीशु की “पापियों” के साथ समय बिताने के लिए आलोचना की जा रही है।
21 दिसम्बर 2021

दाख के मज़दूरों का दृष्टान्त

“काल्पनिक बगीचा जिनमें वास्तविक मेंढक हैं।” इस प्रकार एक लेखक ने यीशु के दृष्टान्तों का वर्णन किया है। वे कल्पनाशील कहानियाँ हैं, परन्तु वे वास्तविक जीवन से सम्बन्ध रखती हैं। वे काल्पनिक बगीचे हैं, परन्तु उनमें वास्तविक मेंढक हैं। प्रायः वे मेंढक हम होते हैं।
23 दिसम्बर 2021

हार न मानने वाली विधवा का दृष्टान्त

पहली दृष्टि में तो, हार न मानने वाली विधवा का दृष्टान्त (लूका 18:1-8) हम पर अटपटा प्रभाव डालता है, और बहुत से पास्टर और साधारण लोग इसे समझने के लिए संघर्ष करते हैं। परन्तु यह दृष्टान्त, जब इसके सन्दर्भ में समझा जाता है, अद्भुत अर्थ निकालता है और परमेश्वर लोगों को विश्वास में बढ़ते जाने के लिए आग्रह करता है।
28 दिसम्बर 2021

फरीसी और कर वसूल करने वाले का दृष्टान्त

यह एक रोमांचक और स्पष्ट करने वाला क्षण होता है जब हम कहानी में मोड़ को पाते हैं। लूका 18:9-14 में, हमारे पास एक आश्चर्यजनक मोड़ है। दो पुरुष मन्दिर में प्रार्थना करने के लिए जाते हैं। एक जिसे आप वहाँ देखने की आप अपेक्षा करते—फरीसी।
28 दिसम्बर 2021

अच्छे चरवाहे का दृष्टान्त

दृढ़-जड़ पकड़ रूपक (परमेश्वर हमारी चट्टान है, प्रेम एक यात्रा है, इत्यादि) सत्यों को पकड़ने में हमारी सहायता करते हैं, जो अन्यथा हमारी मानसिक उंगलियों से फिसल सकते हैं। यूहन्ना 10 एक प्रमुख उदाहरण है।